UP में EVM चोरी का आरोप, Akhilesh ने कहा: ‘लोकतंत्र के लिए यह बड़ा खतरा


यूपी में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और सुहेलदेव पार्टी (Suheldev Party) ने ईवीएम (EVM) चोरी का सनसनीखेज दावा किया है. वाराणसी में सपा कार्यकर्ताओं ने एक ईवीएम से भरी गाड़ी पकड़ी है. अखिलेश यादव ने कहा है कि लोकतंत्र के लिए यह खतरे का समय है.

वाराणसी में नगर पालिका की कूड़े की गाड़ी में पोस्टल बैलट और चुनाव सामग्री से भरे तीन बख्शे मिलने पर सपाइयों ने जमकर हंगामा किया. डीएम शिवाकांत द्विवेदी और एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने परसाखेड़ा ईवीएम स्ट्रांग रूम पर पहुंचकर स्थिति को संभाला.

यूपी विधानसभा चुनाव के लिए 10 मार्च को होनी वाली मतगणना से पहले EVM में धांधली लेकर समाजवादी पार्टी ने प्रशासन पर बड़ा आरोप लगाया है. इस मामले में मंगलवार शाम कूड़े की गाड़ी में पोस्टल बैलट और चुनाव सामग्री से भरे तीन बख्शे मिलने पर सपाइयों ने जमकर हंगामा किया. डीएम शिवाकांत द्विवेदी और एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने परसाखेड़ा ईवीएम स्ट्रांग रूम पर पहुंचकर स्थिति को संभाला.

कूड़े की गाड़ी में पोस्टल बैलट को लेकर मचा बवाल
सपाईयों को एक बक्शा दिखाया. इसके बाद मामला शांत हो सका. डीएम ने कहा कि, परसाखेड़ा मतगणना स्थल पर स्थिति सामान्य हो गई है. इस घटना की जांच की जाएगी. विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 की मतगणना 10 मार्च को परसाखेड़ा राज्य भंडारण गृह (एसडब्ल्यूसी) के गोदाम में होगी.

प्रत्याशियों ने प्रशासन से की ये मांग
उन्होंने कहा कि इस प्रकरण की जांच भी की जा रही है. इसके बाद सभी लोग जांच से संतुष्ट होने के बाद मामला शांत हो गया है. इसके साथ ही प्रत्याशियों ने सीसीटीवी कैमरे से स्ट्रांग रूम देखने की इच्छा व्यक्त की. उनको सीसीटीवी कैमरे भी दिखाएं गए हैं.

डीएम ने कहा, ट्रेनिंग के लिए ले जाई जा रही थी 20 EVM मशीन

राज्य चुनाव आयोग के अधिकारी ने आगे कहा, “इन ईवीएम को स्‍ट्रॅांग रूम में ले जाने के दौरान एक राजनीतिक दल के कुछ सदस्यों ने वाहन को रोक दिया और अफवाह फैलाना शुरू कर दिया कि वाहन में वोटों की गिनती के लिए ईवीएम हैं.” आरोपों के बाद वाराणसी के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने मंगलवार को कई राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की. शर्मा ने कहा, “लगभग 20 ईवीएम को प्रशिक्षण के लिए यूपी कॉलेज ले जाया जा रहा था. कुछ राजनीतिक लोगों ने वाहन रोक दिया और यह कहकर अफवाह फैला दी कि इन ईवीएम का इस्तेमाल चुनाव में किया गया था. जबकि स्ट्रांग रूम अलग है और कल पकड़ी गई यह ईवीएम मशीन अलग है. मतगणना ड्यूटी के लिए नियुक्‍त कर्मचारियों का यह दूसरा प्रशिक्षण है और इन मशीनों का प्रयोग प्रशिक्षण में हमेशा व्यावहारिक प्रशिक्षण के लिए किया जाता है.” उन्होंने कहा कि उपर्युक्त 20 ईवीएम का मतदान में उपयोग नहीं किया गया था और उन्हें प्रशिक्षण के उद्देश्य से भेजा जा रहा था.


1
0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *