झारखंडः देवघर रोपवे हादसे से सीख, अब जलप्रपात में सुरक्षा पुख्ता करने के लिए मुख्यमंत्री ने दिया ये निर्देश


मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पतरातू डैम में संचालित बोट में बैठने वाले पर्यटकों की सुरक्षा को लेकर अधिकारियों को निर्देश दिया। कहा कि विभाग संचालकों को बोट उपलब्ध कराएं। लोगों की सुरक्षा के लिए रेस्क्यू बोट की भी व्यवस्था करें। ताकि, विपरीत परिस्थितियों का सामना किया जा सके। देवघर रोपवे हादसे के बाद पयर्टनस्थलों पर सुरक्षा को लेकर झारखंड सरकार संजीदा है।

हर तरह के बोट की व्यवस्था पर्यटकों के लिए विभाग करें। बोट की गुणवत्ता का पूरा ध्यान विभाग रखें। मुख्यमंत्री ने चांडिल डैम में पर्यटकों के लिए उपलब्ध कराए जाने मूलभूत सुविधाओं की जानकारी ली।

मसानजोर में बनेगा गेस्ट हाउस

झारखंड मंत्रालय में पर्यटन, कला-संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग के कार्य प्रगति की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने पर्यटन क्षेत्रों में पर्यटकों को सुविधा उपलब्ध कराने के लिए वन विभाग के साथ बैठक करने का निर्देश दिया। कहा कि मुख्य सचिव के नेतृत्व में बैठक कर सभी अड़चनों को यथाशीघ्र दूर करें। डैम के आसपास स्थित वन भूमि और वनों का उपयोग पर्यटकों को सुविधा और मनोरंजन के लिए करें। इसके लिए वन विभाग से समन्वय बनाएं। मुख्यमंत्री ने मसानजोर डैम के पास गेस्ट हाउस बनाने का निर्देश विभाग के अधिकारियों को दिया है। उन्होंने कहा कि हर वर्ष जल प्रपात में युवाओं की जान जा रही है। हमें नागरिकों को बचाना है। फॉल्स में घटना वाले जगहों को चिन्हित करें और पानी के अंदर चट्टानों में बन चुके होल को बंद करें। बैठक में मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, विनय कुमार चौबे, अमिताभ कौशल आदि मौजूद थे।

विरासत स्थल का संरक्षण जरूरी

मुख्यमंत्री ने कला संस्कृति विभाग की समीक्षा के क्रम में कहा कि विरासत स्थल का संरक्षण जरूरी है। इसके लिए गंभीरता से काम करने की जरूरत है। यहां संभावनाएं हैं। इसके लिए अच्छी एजेंसी का चयन करें जो राज्य के विरासत को उसके पुराने स्वरूप में ही विकसित करें।


0
0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *