यातायात निदेशालय की वर्ष 2023 की उपलब्धियां, यातायात निदेशालय द्वारा सड़क सुरक्षा एवं यातायात व्यवस्था के सुधार हेतु लगातार प्रयास किये।

0

देहरादून– यातायात निदेशालय द्वारा सड़क सुरक्षा एवं यातायात व्यवस्था के सुधार हेतु लगातार प्रयास किये जा रहे है। पिछले वर्ष 2023 में यातायात निदेशालय द्वारा सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम हेतु तकनीकी के प्रयोग के साथ-साथ यातायात जागरुकता के माध्यम से आमनगरिकों को जागरुक किया गया ।

वर्ष 2023 में यातायात निदेशालय उत्तराखण्ड की उपलब्धियां का विवरण निम्नवत हैः-

(I) प्रवर्तन की कार्यवाही (Enforcement)

• कुल चालान एवं संयोजन की कार्यवाही- सड़क दुर्घटनाओं में अंकुश लगाने के दृष्टिगत मोटर वाहन अधिनियम के अन्तर्गत यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध की गयी कार्यवाही के अन्तर्गत वसूली गयी धनराशि में वर्ष 2022 में 5.877 लाख चालानों से 34.24 करोड़ का संयोजन शुल्क वसूल किया गया है। वर्ष 2023 में (जनवरी से नवम्बर, 2023 तक) 6.69 लाख चालानों 37.06 करोड़ का संयोजन शुल्क वसूला गया।

• ई-चालान के द्वारा कार्यवाही- राज्य में चालानी प्रक्रिया के आधुनिकीकरण तथा पूर्ण पारदर्शी बनाये जाने के दृष्टिगत सम्पूर्ण राज्य में एक साथ ई0चालान प्रणाली प्रारम्भ की गयी है, जिसके अन्तर्गत सभी जनपदों को 1450 ई0चालान मशीन वितरित की गयी है। ई-चालान मशीन के माध्यम से वर्ष 2022 में 3.055 लाख E-challan चालान में रू0 15.92 करोड़ का संयोजन शुल्क वसूल किया गया। वर्ष 2023 में (जनवरी से नवम्बर तक) 3.76 लाख E-challan से 20.39 करोड़ का संयोजन शुल्क वसूल किया गया।

• Online e-payment के द्वारा कार्यवाही – राज्य में यातायात का उल्लंघनकर्ताओं की सुविधा हेतु Online e-payment की कार्यवाही आरम्भ की गयी है। जिसके अन्तर्गत State Bank of India के साथ MoU हस्ताक्षर किया गया है। E-payment द्वारा 14407 चालान से 1.92 करोड, UPI द्वारा 20435 चालान से1.24 करोड़ एवं Card payment द्वारा 4328 चालान से 23.64 लाख संयोजन वसूल किया गया है।

• Speed Violation Detection System के द्वारा कार्यवाही- वर्तमान में जनपद देहरादून में Speed Violation Detection System स्थापित किये गये हैं, जिनसे ओवर स्पीडिंग वाहनों तथा रेड लाईट जम्प करनें वाले वाहनों के विरुद्व चालानी कार्यवाही की जा रही है। Speed Violation Detection System सिस्टम के माध्यम से वर्ष 2022 में कुल 49.80 हजार चालान किये गये जिनसे रू0 1.46 करोड़ का संयोजन शुल्क वसूल किया गया। वर्ष 2023 में (जनवरी से नवम्बर तक) 89.85 हजार चालान से 2.37 करोड का संयोजन शुल्क वसूल किया गया।

• इण्टरसेप्टर द्वारा कार्यवाही- वर्ष 2022 में इण्टरसेप्टर से 55534, स्पीड रडार से 5518, एल्कोमीटर से 2195 एवं टोईंग क्रेन मशीन से 13863, हाईवे ट्रैफिक पैट्रोल कार से 17247 चालान किये गये है। वर्ष 2023 में (जनवरी से नवम्बर तक) इण्टरसेप्टर से 51864, स्पीड रडार से 12180, एल्कोमीटर से 2456 एवं टोईंग मशीन से 18722, हाईवे ट्रैफिक पैट्रोल कार से 16503 चालान किये गये है।

• अभियानों के अन्तर्गत कार्यवाही- यातायात अभियान-वर्ष 2023 में निजी वाहन में नाम पट्टिका का प्रयोग करने पर 22.02.2023 से 15 दिवस का अभियान चलाया गया जिसके अन्तर्गत 1969 वाहनों के विरूद्ध कार्यवाही की गयी। दिनांक 15.05.2023 से शराब पीकर वाहन चलाने, ओवर स्पीड, गलत दिशा में वाहन चलाने पर 15 दिवस का अभियान चलाया गया जिसके अन्तर्गत शराब पीकर वाहन चलाने वालों के 293, ओवर स्पीड में 2121 एवं गलत दिशा में वाहन चलाने पर 2474 वाहनों के विरूद्ध कार्यवाही की गयी हैं, दिनांक 15.06.2023 से प्रेशर हार्न/मल्टीटोन्ड हार्न का प्रयोग करने वालों के विरूद्ध 15 दिवस के अभियान में 639 वाहनों के चालान किये गये। दिनांक 05.08.2023 से दोषपूर्ण नम्बर प्लेट, नशें में वाहन चलाने, आई0एस0आई0मानकों के विपरीत हेलमेट धारण करने वालों के विरूद्ध 15 दिवस के अभियान में दोषपूर्ण/फर्जी नम्बर प्लेट में 4188, नशे में वाहन चलाने पर 306 एवं आई0एस0आई0 मानकों के विरूद्ध हेलमेट धारण करने पर 659 वाहनों के चालान किये गये।

• PPP Mode क्रेनों के द्वारा कार्यवाही- शासन द्वारा पब्लिक प्राईवेट पार्टनरशिप पीपीपी माडल पर प्राईवेट क्रेन के संचालन हेतु जनपद देहरादून सहित उत्तरकाशी, टिहरी, पौड़ी, हरिद्वार, रूद्रप्रयाग, चमोली, उधमसिंहनगर, नैनीताल एवं अल्मोड़ा में प्राईवेट क्रेन संचालन की अनुमति प्रदान की गयी है। जनपद देहरादून में पीपीपी माडल पर आधारित प्राईवेट क्रेन से वर्ष 2023 में जनवरी से नवम्बर तक 10539 चालान से 53.43 लाख का संयोजन शुल्क वसूल किया गया है। वर्तमान में देहरादून में 8 एवं हरिद्वार में 5 कुल 13 पीपीपी माडल आधारित टोईंग मशीन कार्यशील है।

• Drone के द्वारा कार्यवाही- Drone का Traffic Enforcement में प्रयोग करते हुए Enforcementकी कार्यवाही की जा रही है। जनपद देहरादून, हरिद्वार एवं ऊधमसिंहनगर में ड्रोन से नो पार्किंग जोन में खडे वाहनों के विरुद्व चालानी कार्यवाही के साथ-साथ ड्रोन कैमरा पर लगे Announcement system से Announce कर यातायात प्रबन्धन में सहयोग लिया जा रहा है। जनपद देहरादून में ड्रोन से अक्टूबर, 2023 तक कुल 2700 चालान किये जा चुके है।

 

(II)सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम हेतु एप एवं पोर्टल का योगदान

• i-RAD (Integrated Road Accident Data) – i-RAD (Integrated Road Accident Data) का CCTNS के साथ Integration किया गया है। CCTNS के साथ i-RAD के Integration होने से किसी भी Oniline FIR में Accident ID से i-RAD में Feed Accident details से Auto fetch किया जा सकता है। जनवरी, 2023 से दिसम्बर,2023 तक i-RAD में Feed 1634 सडक दुर्घटनाओं में से 320 मामलों में FIR दर्ज हुई है।

• Uttarkhnad Traffic Eyes – यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध कार्यवाही में आम जनता का सहयोग प्राप्त करने के उद्देश्य से Uttarkhnad Traffic Eyes app बनाया गया हैं। जिसे बाद में Uttarakhand Police one App में Integrate किया गया। Uttarkhnad Traffic Eyes app के माध्यम से यातायात से सम्बन्धित मामलों में वर्ष 20222 में 62419 शिकायतों मे से 26693 स्पष्ट, 7625 निस्तारित, 19068 शेष कुल संयोजन शुल्क रू0 21.78 लाख का संयोजन शुल्क वसूल किया गया है। वर्ष 2023 में (जनवरी से नवम्बर तक) Traffic Eyes app की 58051 शिकायतों मे से 19333 स्पष्ट शिकायतों में से 7723 निस्तारित किये गये जबकि 11610 चालान निस्तारण हेतु शेष है। निस्तारित चालान में कुल रू0 28.25 लाख रुपये संयोजन शुल्क वसूल किया गया।

• Google/Mapple App – Google/Mapple द्वारा Real time traffic advisory जारी की जाती है। इसके अन्तर्गत Mapple India के साथ MoU हस्ताक्षर किये गये है। जनपद स्तर के यातायात पुलिस के फील्ड एवं कन्ट्रोल रुम प्रभारियों के साथ Traffifc advisory whatsapp group तैयार किया गया है। Group में Mapple एवं Google map के प्रतिनिधि भी जुडे है। राज्य के किसी भी जनपद स्तर पर कोई यातायात से सम्बन्धित advisory अथवा कोई कार्यक्रम, सड़क अवरुद्व आदि की सूचना ग्रुप में Coordinate के साथ शेयर की जाती है जिसके अनुसार टीम Mapple एवं Google Map के प्रतिनिधियों द्वारा मैप पर अपडेट किया जाता है।

(III)यातायात व्य़वस्था एवं सड़क सुरक्षा हेतु जनपदों को आवंटित किये उपकरण

• राज्य में सड़क दुर्घटनाओं में अंकुश लगाने के दृष्टिगत विगत अवधि में 17 इण्टसेप्टर वाहन, 57 स्पीड रडार गन, 325 एल्कोमीटर, 51 क्रेन एवं 14 हाईवे ट्रैफिक पैट्रोल कार जनपदों को क्रय कर जनपदों को आवंटित की गयी हैं।

• यातायात व्यवस्था हेतु 08 बुलेट इन्टरसेप्टर, 02 रोड़ सेफ्टी वाहन, 01 Exhibition Vehicle, 20 Blinker lights, 400 wheel lock clamp, 500 Traffic Cones, 13 laser Speed guns, 110 Breath analyser, 04 Traffic signals , 02 Portable traffic signals ,100 Body worn camera,10 Digital Speed Sign Board लाईट क्रय कर जनपदों को आवंटित की गयी है।

• Traffic and Road Safety की 200 यातायात कार्ययोजना पुस्तिका तैयार कर जनपदों को आंवटित की गयी।

• स्कूल/कोलेजों में 1700 ट्रैफिक कार्टून बुक तैयार कर बंटवाई गयी है, जो कि अग्रेजी एवं हिन्दी में तैयार की गई है।

(IV)यातायात जागरुकता एवं सड़क सुरक्षा हेतु जागरुकता कार्यक्रम

• जन जागरूकता के अन्तर्गत विभिन्न कार्यक्रम जैसे स्कूल, कालेजों में Lecture दिये जा रहे हैं, जिसके अन्तर्गत 1060 कार्यक्रमों में 79931 लोगों को जागरुक किया गया है।

• Helmet man Of India श्री राघवेन्द्र कुमार के सहयोग से चार बड़े जनपदों में यातायात जागरुकता कार्यक्रम चलाये जा रहे है

• Traffic volunteer के रूप में आमलोगों के द्वारा स्वयंसेवक के रूप में Traffic में सहयोग लिया जा रहा है। वर्तमान में 253 Traffic volunteer पूरे राज्य में कार्यरत है।

• Junior Traffic Force के अन्तर्गत स्कूली बच्चों को यातायात के प्रति जागरूक किया जा रहा है। वर्तमान में जनपदों में 257 Junior Traffic Force के छात्र-छात्रा कार्यरत है। जूनियर ट्रैफिक फोर्स के लिए 1500 टी-शर्ट क्रय की गई है।

• Good Samaritans Scheme के अन्तर्गत सड़क दुर्घटना में घायलों की मदद करने वाले नेक व्यक्तियों को प्रोत्साहित करने के लिये एक निश्चित धनराशि प्रदान की जा रही है।वर्ष 2022-23 में 57 Good Samaritans को 5 लाख रुपये का गुड सेमेरिटन पुरस्कार प्रदान किया गया। वर्ष 2023-24 में 21 व्यक्तियों को 2.10 लाख रुपये की Good Samaritan पुरस्कार प्रदान किया गया है।

• यातायात जागरुकता के दृष्टिगत 1500 ट्रैफिक स्लोगन युक्त Wall & Table Calendar तैयार कर जनपदों को आंवटित किये गये।

• यातायात निदेशालय के फेसबुक पेज Uttarakhand Traffic Police उत्तराखण्ड पुलिस की सभी इकाईयों में पहला ऐसा फेसबुक पेज है जिसने 1 लाख फॉलोवर्स हुए है।

• यातायात निदेशालय आमलोगों की सुविधा के लिए वैबसाईट www.uttarakhandtraffic.com बनायी गयी।

• यातायात निदेशालय आमलोगों की शिकायतों के लिए की ई-मेल info@uttarakhandtraffic.com बनायी गई है।

(V)अन्य कार्य

• मौहल्ला ट्रैफिक कमेटियों का गठन किया गया है।

• यातायात पुलिस में 41 महिलाओं को शामिल किया गया है। जो कि चौक-चौराहों पर कार्य कर रही है।

• प्रत्येक जनपद में स्पीड लिमिट निर्धारित की गयी है तथा हाईटेक स्पीड लिमिट बोर्ड भी लगाये गये है। जनपद स्तर पर निधारित गतिसीमा को Mapple एवं Google map पर update किया जायेगा जिससे Google, mapple users को राज्य में स्थित सम्बन्धित सड़क पर निर्धारित स्पीड लिमिट की जानकारी प्राप्त हो सकेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *